घर 4 दीवारी से नहीं 4 जनों से बनता हैपरिवार उनके प्रेम और तालमेल से बनता है सभी कार्यों को जोड़ कर साधना, सफल गृहणी का काम है नौकरीवाली से पैसा बनेगा/घर नहीं प्रभाव और दुर्भाव में, आधुनिक/पारिवारिक तालमेल से उत्तम घर परिवार से देश आगे बड़े रसोई, बच्चों-परिवार की देख भाल, गृह सज्जा के बीच अपने लिए भी ध्यान देती शिक्षित नारी-(निस्संकोच ब्लॉग पर टिप्पणी/अनुसरण/ निशुल्क सदस्यता व yugdarpan पर इमेल/चैटकरें, संपर्कसूत्र- तिलक संपादक युगदर्पण 09911111611, 9999777358.

बिकाऊ मीडिया -व हमारा भविष्य

: : : क्या आप मानते हैं कि अपराध का महिमामंडन करते अश्लील, नकारात्मक 40 पृष्ठ के रद्दी समाचार; जिन्हे शीर्षक देख रद्दी में डाला जाता है। हमारी सोच, पठनीयता, चरित्र, चिंतन सहित भविष्य को नकारात्मकता देते हैं। फिर उसे केवल इसलिए लिया जाये, कि 40 पृष्ठ की रद्दी से क्रय मूल्य निकल आयेगा ? कभी इसका विचार किया है कि यह सब इस देश या हमारा अपना भविष्य रद्दी करता है? इसका एक ही विकल्प -सार्थक, सटीक, सुघड़, सुस्पष्ट व सकारात्मक राष्ट्रवादी मीडिया, YDMS, आइयें, इस के लिये संकल्प लें: शर्मनिरपेक्ष मैकालेवादी बिकाऊ मीडिया द्वारा समाज को भटकने से रोकें; जागते रहो, जगाते रहो।।: : नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक विकल्प का सार्थक संकल्प - (विविध विषयों के 28 ब्लाग, 5 चेनल व अन्य सूत्र) की एक वैश्विक पहचान है। आप चाहें तो आप भी बन सकते हैं, इसके समर्थक, योगदानकर्ता, प्रचारक,Be a member -Supporter, contributor, promotional Team, युगदर्पण मीडिया समूह संपादक - तिलक.धन्यवाद YDMS. 9911111611: :

Saturday, March 9, 2013

** "हे भारत की नारी"**

** "हे भारत की नारी"** Pl. Copy,Paste,Tag frnds
महिला दिवस मनाती नारी अपनी अस्मिता को पहचान,
पवित्र बंधन है, अधिकार ओ दायित्व का समन्वय व मेल। 
नारी मुक्ति का डंका बजाने वाले यह गठबंधन क्या जानें,
उनके लिए तो हर इक नारी शमा व नर हैं केवल परवाने।
पुष्प का मान तभी तक है जब तक डाली के साथ रहे।
डाली से छितरे पुष्प तो केवल मसले कुचले ही जायेंगे।
जीवन का यह सिद्धांत क्यों हमें समझाया नहीं आता ?
जब तक दोनों पहिये न चले, वाहन कोई चल नहीं पाता।
-तिलक 9911111611 yugdarpan.com"
अंधेरों के जंगल में, दिया मैंने जलाया है | 
इक दिया, तुम भी जलादो; अँधेरे मिट ही जायेंगे ||" युगदर्पण 
http://kaavyaanjalikaa.blogspot.in/2013/03/blog-post.html
http://thitholeedarpan.blogspot.in/2013/03/blog-post_9.html
http://filmfashionclubfundaa.blogspot.in/2013/03/blog-post.html
http://yuvaadarpan.blogspot.in/2013/03/blog-post_9.html
घर 4 दीवारी से नहीं 4 जनों से बनता है,
परिवार उनके प्रेम और तालमेल से बनता है |
आओ मिलकर इसे बनायें; - तिलक
Post a Comment